पाँच तरीक़ो से लिखी विश्व प्रसिद्द पाँच पुस्तके

Advertisement
piyush-goel-philosophy-बहुमुखी प्रतिभा के धनी पीयूष गोयल

बहुमुखी प्रतिभा के धनी  पीयूष गोयल, उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता


आप इस भाषा को देखेंगे तो एकबारगी भौचक्‍क रह जायेंगे।
आपको समझ में नहीं आयेगा कि यह किताब किस भाषा शैली में लिखी हुई है। पर आप जैसे ही दर्पण (शीशे‌) के सामने पहुंचेंगे तो यह किताब खुद-ब-खुद बोलने लगेगी। सारे अक्षर सीधे नजर आयेंगे। इस मिरर इमेज किताब को पीयूष ने लिखा है। मिलनसार पीयूष मिरर इमेज की भाषा शैली में कई किताबें लिख चुके हैं 

5-famous-books-in-world-india-2015-उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता

 

 सुई से लिखी मधुशाला

पीयूष ने “एक ऐसा कारनामा” कर दिखाया है कि देखने वालों आँखें खुली रह जाएगी और न देखने वालों के लिए एक स्पर्श मात्र ही बहुत है, पीयूष ने पूछने पर बताया कि आपने सुई से पुस्तक लिखने का विचार क्यों आया ? तो पीयूष ने बताया कि अक्सर मेरे से ये पूछा जाता था कि आपकी पुस्तकों को पढ़ने के लिए शीशे की जरुरत पड़ती है।    पढ़ना उसके साथ शीशा, आखिर बहुत सोच समझने के बाद एक विचार दिमाग में आया क्यों न सूई से कुछ लिखा जाये सो मैंने सूई से स्वर्गीय श्री हरिवंशराय बच्चन जी की विश्व प्रसिद्ध पुस्तक “मधुशाला” को क़रीब 2 से 2.5 महीने में पूरा किया। यह पुस्तक भी मिरर इमेज में लिखी गयी है और इसको पढ़ने लिए शीशे की जरुरत नहीं पड़ेगी क्योंकि रिवर्स में पेज पर शब्दों के इतने प्यारे जैसे मोतियों से पृष्ठों को गुंथा गया हो, उभरे हुए हैं जिसको पढ़ने में आसानी रहती हैं और यह सूई से लिखी “मधुशाला” दुनिया की अब तक की पहली ऐसी पुस्तक है जो मिरर इमेज व सूई से लिखी गई है। 

Advertisement
मेंहदी से लिखी गीतांजलि

पीयूष ने एक ऑर नया कारनामा कर दिखाया उन्होंने 1913 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेता “रविन्द्रनाथ टैगोर” की विश्व प्रसिद्ध कृति गीतांजलि को “मेंहदी कोन” से लिखा है। पीयूष ने श्री दुर्गा सप्त शती, अवधी में सुन्दर कांड, आरती संग्रह, हिंदी व् अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में श्री साईं सत्चरित्र भी लिख चुके हैंI और “रामचरितमानस” (dohe, sorta and chopai) को भी लिख चुके हैं। .

Advertisement

5-famous-books-in-world-india-मेंहदी से लिखी गीतांजलि

Advertisement

 

 कील से लिखी ‘पीयूष वाणी’

अब पीयूष ने अपनी ही लिखी पुस्तक “पीयूष वाणी” को कील से ए-4 साईज की एलुमिनियम शीट पर लिखा है। पीयूष ने पूछने पर बताया कि आपने कील से क्यों लिखा है? तो उन्होंने बताया कि वे इससे पहले दुनिया की पहली सुई से स्वर्गीय श्री हरिवंशराय बच्चन जी की विश्व प्रसिद्ध पुस्तक “मधुशाला” को लिख चुके हैं। तो विचार आया कि क्यों न कील से भी प्रयास किया जाये सो उन्होंने ए-4 साइज के एलुमिनियम शीट पर लिख डाला।

5-famous-books-in-world-india-कील से लिखी 'पीयूष वाणी'

 कार्बन पेपर की मदद से लिखी ‘पंचतंत्र’

गहन अध्ययन के बाद पीयूष ने कार्बन पेपर की सहायता से आचार्य विष्णु शर्मा द्वारा लिखी “पंचतंत्र” के सभी (पाँच तंत्र, 41 कथा) को लिखा है। पीयूष ने कार्बन पेपर को (जिस पर लिखना है) के नीचे उल्टा करके लिखा जिससे पेपर के दूसरी और शब्द सीधे दिखाई देंगे यानी पेज के एक तरफ शब्द मिरर इमेज में और दूसरी तरफ सीधे।

5-famous-books-in-world-india-कार्बन पेपर की मदद से लिखी 'पंचतंत्र'


Advertisement
रहें हर खबर से अपडेट आशा न्यूज़ के साथ

रहें हर खबर से अपडेट आशा न्यूज़ के साथ

और पढ़े
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Back to top button
error: