एक शख्स का नाम है ‘26 जनवरी’

Advertisement

 

             इस शख्स की पीड़ा उनके नाम को लेकर है. वे हर वक्त इससे दुखी रहते हैं और मजाक का कारण तो बनते ही है, उन्हें अपने नाम के कारण दस्तावेजों को भी दिखना पड जाता है. हालांकि उनका जन्म दिन पूरा देश उत्साह और उमंग के साथ मनाता है, बावजूद इसके वे अपने नाम को लेकर पीडि़त और दुःखी है.

 

            मंदसौर में रहने वाले सत्यनारायण टेलर ने अपने बेटे का नाम ‘26 जनवरी’ रखा , क्योकि वे 26 जनवरी 1966 के दिन पैदा हुये थे. गणतंत्र दिवस पर पैदा हुये बेटे की खुशी में सत्यनारायण ने उसका नाम ही ’26 जनवरी’ रख दिया. परंतु 26 जनवरी को बचपन से लेकर जवानी और जवानी से लेकर नौकरी करने तक में यह नाम परेशानी का सबब बन गया.

26-january-taylor-man-name-in-jhabua-झाबुआ के एक शख्स का नाम है ‘26 जनवरी’

 

 

Advertisement
 झाबुआ के उदयगढ़ में कार्यरत थे पिता ” सत्यनारायण टेलर “

 

Advertisement

 

Advertisement
              सत्यनारायण टेलर प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक के रूप में उदयगढ़ जिला झाबुआ में कार्य करते थे. सेवानिवृत्त होने पर वे परिवार सहित मंदसौर आ गये. उनके जिस ’26 जनवरी’ नामक बेटे की बात हो रही है, वे डाइट में बतौर भृत्य सेवारत है और नाम के कारण चर्चा में बने रहते है. उनके पिता ने उनकी जन्म दिनांक को ही नाम बना दिया. हालांकि पांचवी बोर्ड की परीक्षा में उनके पिता को सलाह दी गई थी कि वे नाम बदला सकते है परंतु उन्होंने नहीं माना.

 

             26 जनवरी को अपने नाम के कारण परेशानी का सामना करना पड़ता है. उन्होंने बताया कि 1998 के लोकसभा चुनाव के मतदान दलों की सूची में सबसे उपर उनका नाम था. सूची को देखकर तत्कालीन कलेक्टर मनोज श्रीवास्तव भड़क गये और कहा ये क्या मजाक है…. और उन्होंने सूची पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया. इसके बाद 26 जनवरी को अपना प्रमाणीकरण देना पड़ा था.

इसके अलावा एक बार डाइट के कर्मचारियों का वेतन इसलिये कोषालय ने रोक दिया था कि अधिकारियों को 26 जनवरी नाम होने पर फर्जीवाड़े का संदेह हो गया था. आखिरकार यहां भी 26 जनवरी को प्रमाणीकरण के साथ नियुक्ति पत्र देना पडा, तब जाकर उनके सहित अन्य कर्मचारियों को वेतन मिल सका.

हालांकि लोगों ने कहा कि इस नाम को बदल लीजिए, लेकिन पिता को नाम बदलना ठीक नहीं लगा. नाम की वजह से एक तरफ बेटे की जिंदगी दिलचस्प बनी तो दूसरी तरफ उनको कई मुसीबतें भी झेलनी पड़ीं.एक बार तो नौकरी के दौरान सैलरी नहीं मिली, क्योंकि ऑफिस में उनके नाम को लेकर संदेह था. फिलहाल डाइट (जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान) में पदस्थ 26 जनवरी 22 साल से सेवा दे रहे हैं.

 

 


Advertisement
रहें हर खबर से अपडेट आशा न्यूज़ के साथ

रहें हर खबर से अपडेट आशा न्यूज़ के साथ

और पढ़े
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Back to top button
error: